Best Astrologer in India Gopal Raju Best Astrologer in India Gopal Raju
Best Astrologer in India Gopal Raju Best Astrologer in India Gopal Raju
Best Astrologer in India Gopal Raju Best Astrologer in India Gopal Raju
Best Astrologer in India Gopal Raju Best Astrologer in India Gopal Raju
Best Astrologer in India Gopal Raju Best Astrologer in India Gopal Raju
Best Astrologer in India Gopal Raju Best Astrologer in India Gopal Raju
Instead of shopping, we analyze logically and intellectually | Instead of shopping, we analyze logically and intellectually | Instead of shopping, we analyze logically and intellectually | Instead of shopping, we analyze logically and intellectually | Instead of shopping, we analyze logically and intellectually | Instead of shopping, we analyze logically and intellectually | Instead of shopping, we analyze logically and intellectually | Instead of shopping, we analyze logically and intellectually

Met Gopal Raju ji & I am really very happy because he is not a greedy or money minded person. He showed that way to me that very poor person can also do his easy remedies. I am very thankful to him. I will like to meet him in future also.
*Rekha Nail, Barwaha, Indore
आशा के विपरीत कई वर्षों से मैं मानसिक रूप से बिल्कुल टूट गयी थी व ज़बरदस्त depression की शिकार थी । परन्तु आपने मुझे कई ऐसी चीज़ें पढ़ने को दीं व कई उपाय बताये जिनसे मेरे जीवन में विलक्षण परिवर्तन आया । मैं शब्दों में वह सब नहीं बता सकती परन्तु यह कह सकती हूँ यहाँ आकर मैंने बहुत राहत पाई है और साथ ही साथ मानसिक बल जिससे अब डिप्रेशन नहीं रहता ।
*आशा शर्मा, मेरठ
आप की दिशा दिखलाने के बाद से मुझे और मेरे परिवार के लिए एक अच्छा समय आया है । बहुत दिनों बाद घर में सब मिलकर रहते हैं । इससे अब घर में शांति मिलती है । गरिमा शर्मा, रूड़की
*गरिमा शर्मा, रूड़की
Combination of two gemstones given by you has proved most effective. I am now fully convinced with my job.
*Dushyant Kumar, Mumbai
I am Bhawna Tyagi. 90% satisfy after puja done for me by Mr Gopal Raju.
*Bhawna Tyagi, Roorkee
After wearing gemstone combination given by Sh Gopal uncle my temperament has been changed. I was very aggressive before this. I am quite cool now and completing B.Tech will full confidence. His analysis has changed my life. My thnks and regards for him.
*Mayank Saxena, Delhi
गोपाल जी ने तीन बार बस्तर में पूजा-अनुष्ठान करवाये हैं । मुझे आज क्या मिला है यह लिखकर नहीं देखकर समझा जा सकता है । जगदलपुर में मै. सजावट का आज का ये रूप उस पूजा-पाठ का ही परिणाम है । उनकी किताब के एक छोटे से प्रयोग ने दिन-ब-दिन हमारे उन्नति के रास्ते खोल दिए थे । उस चमत्कारी प्रभाव से प्रेरित होकर ही मैं उनसे मिला था । गोपाल जी का व्यक्तित्व मैग्नेटिक प्रभाव वाला है और उनके क्रम, उपक्रम, लेखन आदि सब विलक्षण हैं और सबसे अलग ।
*सत्यपाल मग्गू, जगदलपुर, बस्तर



विवाह कितने प्रकार के होते हैं

विवाह कितने प्रकार के होते हैं, विवाह के प्रकार,ब्रह्म विवाह, गान्धर्व विवाह,आसुरी विवाह,राक्षस विवाह, पैशाच विवाह, Type of marriage, Marriage, How may types are of marriage, Gopal Raju

मानसश्री गोपाल राजू

      हिन्दु धर्म में सोलह संस्कारों का विशेष महत्व है। जीव की सम्पूर्ण जीवन यात्रा में ऋषि-मुनियों ने उसे अच्छे संस्कारों से संस्कारित करने के लिए उसके जन्म के पूर्व से ही अलग-अलग नियम बनाए जिससे कि वह एक आदर्श और मर्यादा पूर्ण जीवन व्यतीत करें। व्यक्ति की पहचान वस्तुतः उसके सस्कारों से ही होती है। जीवन को सुन्दर बनाने के लिए समाज में अधिकांशतः सोलह संस्कारों को ही मान्य माना गया है। यह सोलह संस्कार हैं - गर्भाधान संस्कार, पुंसवन संस्कार, सीमान्तोनयन संस्कार, जातकर्म संस्कार, नामकरण संस्कार, निष्क्रमण संस्कार, अन्नप्राशन संस्कार, चूड़ाकरण संस्कार, कर्मवेध संस्कार, यज्ञोपवीत संस्कार, विवाह संस्कार, केशान्त संस्कार, वेदारम्भ संस्कार, विवाहाग्नि परिग्रह संस्कार, और अन्योष्टि संस्कार।

    जीवन की यात्रा में वंशवृद्धि के लिए तथा पूर्णतः अर्थात् मुक्ति के लिए विवाह को एक आवश्यक संस्कार माना गया है। शास्त्रों में विवाह के कुल आठ प्रकार बताए गए हैं-

1. ब्रह्म विवाह - इस विवाह में पहले योग्य गुणवान, ज्ञानवान और शारीरिक रूप से बलवान वर की तलाश की जाती है। इसके बाद कन्या पक्ष के परिजन कन्या पक्ष से विवाह का अनुग्रह करते हैं। दोनों पक्ष में परस्पर सहमति के पश्चात् कन्या को वस्त्र-आभूषण से सजाकर विधि-विधान से कन्या दान कर पति के साथ विदा किया जाता है।

2. प्रजापत्य विवाह - इस प्रकार के विवाह में वर और वधु दोनों सहधर्म का पालन करने की प्रतीज्ञा करते हुए विवाह वचन को स्वीकार करते हैं। गृहस्थ धर्म का पालन करने के शुभाशीर्वाद के बाद कन्या के माता-पिता उसको विदा करते हैं। 

3. आर्ष विवाह - वर पक्ष से गऊ का जोड़ा लेकर कन्यादान करना आर्ष विवाह कहलाता है।

4. दैव विवाह - विवाह की वेदी में बैठकर ऋत्विक को जो कन्यादान किया जाता है उसको दैव विवाह कहते हैं। इस विवाह में भी वरपक्ष की सहमति के पश्चात् वैदिक परम्परा से संस्कार करके तथा अन्य अलंकरण के साथ कन्या को विदा किया जाता है।

5. गान्धर्व विवाह - कन्या और वर की परस्पर सहमति के पश्चात् जो विवाह होता है वह गान्धर्व विवाह कहलाता है। वर्तमान में देखा जाएं तो प्रेम विवाह इस प्रकार के विवाह का ही एक परिवर्तित स्वरूप है। प्रचीन काल में इस प्रकार का विवाह का एक स्वरूप स्वयंवर भी कहा जाता था ।

6. आसुरी विवाह - कन्या के माता-पिता को धन आदि का प्रलोभन देकर जो विवाह किया जाता है वह आसुरी विवाह कहलाता है। इसमें एक प्रकार से कन्या को धन देकर क्रय करना कहा जा सकता है।

7. राक्षस विवाह - बलपूर्वक, डरा-धमकाकर बलात् जो विवाह किया जाता है उसे राक्षस विवाह कहते हैं। इस विवाह में वर पक्ष द्वारा छल, कपट, बाहुबल और अपने दबदबे का प्रयोग करते हुए एक प्रकार से कन्या का अपहरण करना भी आ जाता है।

8. पैशाच विवाह - कन्या को मदहोश करके अथवा सोती हुई अवस्था में हरण करके उससे बलात् विवाह करना पैशाच विवाह कहलाता है। अचेतन अवस्था में उससे सम्बन्ध बनाकर उसका अपहरण करना, बलात्कार करके उसकी इच्छा के विरूद्ध उसका अपहरण आदि करना सब पैशाच विवाह की श्रेणी में आते हैं।

    उक्त आठ प्रकार के विवाह में पहले चार को ही धर्मानुकूल बताया गया हैं। अन्य चार अन्तः के विवाह समाजिक अथवा धार्मिक रूप से किसी भी समाज के द्वारा मान्य नहीं है और इसलिए स्वीकार भी नहीं किये जाते है।

 

मानसश्री गोपाल राजू

 


Feedback

Name
Email
Message


Web Counter
Astrology, Best Astrologer, Numerology, Best Numerologist, Palmistry,Best Palmist, Tantra, Best Tantrik, Mantra Siddhi,Vastu Shastra, Fangshui , Best Astrologer in India, Best Astrologer in Roorkee, Best Astrologer In Uttrakhand, Best Astrologer in Delhi, Best Astrologer in Mumbai, Best Astrologer in Channai, Best Astrologer in Dehradun, Best Astrologer in Haridwar, Best Astrologer in Nagpur, Gemologist, Lucky Gemstone, Omen, Muhurth, Physiognomy, Dmonocracy, Dreams, Prediction, Fortune, Fortunate Name, Yantra, Mangal Dosha, Kalsarp Dosh, Manglik,Vivah Mailapak, Marriage Match, Mysticism, Tarot, I Ch’ing, Evil Spirits, Siddhi, Mantra Siddhi, Meditation, Yoga, Best Teacher of Yoga, Best Astrologer in Rishikesh, Best Astrologer in Chandigarh, Best Astrologer in Mumbai, Best Astrologer in Pune, Best Astrologer in Bhopal, Best Articles on Astrology, Best Books on Astrology,Face Reading, Kabala of Numbers, Bio-rhythm, Gopal Raju, Ask, Uttrakhand Tourism, Himalayas, Gopal Raju Articles, Best Articles of Occult,Ganga, Gayatri, Cow, Vedic Astrologer, Vedic Astrology, Gemini Sutra, Indrajal Original, Best Articles, Occult, Occultist, Best Occultist, Shree Yantra, Evil Eye, Witch Craft, Holy, Best Tantrik in India, Om, Tantrik Anushan, Dosha – Mangal Dosha, Shani Sade Sati, Nadi Dosha, Kal Sarp Dosha etc., Career related problems, Financial problems, Business problems, Progeny problems, Children related problems, Legal or court case problems, Property related problems, etc., Famous Astrologer & Tantrik,Black Magic, Aura,Love Affair, Love Problem Solution, , Famous & Best Astrologer India, Love Mrriage,Best Astrologer in World, Husband Wife Issues, Enemy Issues, Foreign Trip, Psychic Reading, Health Problems, Court Matters, Child Birth Issue, Grah Kalesh, Business Losses, Marriage Problem, Fortunate Name